ताई की गवाही आला मुकद्दमा

एक बार एक मुक्कदमे में ताई गवाह बना दी !

ताई जा के कटघरे में खड़ी हो गयी और बाई चांस दोनू वकील भी ताई के गाम के ही थे

पहले वकील नै बात शुरू करण के मारी ताई तै पूछ्या “अक ताई तू मन्ने जाने है? ताई बोली “हाँ रै तू रामफूल का है ना तेरा बाबू तो भाई घणा सूधा आदमी था पर तू कत्ति निक्कमा लिकडया मन्ने सुण्या है तू नम्बर का झूठा है और झूठ बोल बोल कै तूं वकील बण कै लोग नै ठगे है आर निरे झूठे गवाह बना के तू केस जीते है तेरे तें तो सारे लोग परेशान हैं तेरी लुगाई भी परेशान हो के तन्ने छोड़ कै चली गयी और वकील को काटो तो खून नही भरे कोर्ट में ताई ने झंड कर दी

उसने फेर हिम्मत बाँधी और उसनै थोडी देर मैं दूसरे वकील कानी इशारा करया अर फेर पुछया “तू इसने जाने है ? “ताई बोली “हाँ यो रूल्दू का छोरा है इसके बाबू ने भी निरे रूपिये खर्च करके यो पढाया अर् इसने कख नही सिखया सारी उमर छोरिया पाछै हांडे गया इसका चक्कर भी तो तेरी बहू गेल भी था और आज ताहि इसने एक भी मुक्कादमा नही जीत लिया है एक नम्बर का निरभाग आदमी है

जनता हांसन लग गयी और जज के दहका बैठ गया और बोल्या”आर्डर आर्डर”

फेर वो दोनू वकील बुलाये और कहन लगया “जे थाम दोनुवा में तै ईब किसे नै भी या पूछ ली के या ताई मन्ने जाने है तो मैं थाम दोनुआं नै आड़े ए गोली मरवा दयूंगा

चुटकला समाप्त