पुणे के राहुल पाठक बना रहे हैं बिना बिजली के चलने वाला पोर्टेबल वाटर फ़िल्टर

img 20211102 205844 1

पोर्टेबल वाटर फ़िल्टर बनाने वाले ये श्रीमान राहिल पाठक जी हैं जो पुणे, महाराष्ट्र के रहने वाले हैं। राहुल बताते हैं कि जब पुणे में मैं इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा था, तब मुझे समझ आया कि तार्किक ढंग से प्रयोग के जरिये ही मैं अनेकों समस्याओं का हल निकाल सकता हूँ जिससे मैं अपने भविष्य का निर्माण करने के साथ साथ अनेकों लोगों का जीवन भी आसान कर सकता हूँ। साल 1993 में मैंने अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ देने का मन बनाया और मैं एक वॉटर प्यूरीफायर की मार्केटिंग करने लगा। मेरी मार्केटिंग करने की प्रक्रिया देख …

Read more

दमा के रोगी ध्यान दें काइंडली प्लीज

नमस्कार , मेरे एक अजीज सीनियर साथी हैं श्रीमान वैधराज पुष्कर वीर सिंह भाटिया जी, जो हर वर्ष अपने आयुर्वेदिक प्रतिष्ठान धर्मायु आयुर्वेद डेराबस्सी पंजाब भारत से वर्ष में एक बार शरद पूर्णिमा को सेवन की जाने वाली दमे की अचूक दवा जिसके सेवन से व्यक्ति एकबार में ही दमे के रोग से मुक्त हो जाता है का वितरण करेंगे। दवा को हर वर्ष पहले से ही प्राचीन शास्त्रीय विधियों के द्वारा उच्च गुणवत्ता के मानकों की कसौटी पर रसशाला में तैयार किया जाता है जो प्रक्रिया आजकल चल रही है। इस दवा को 19 अक्टूबर 2021 को खीर में …

Read more

धौले एंड काले कानून और किसानपुत्र की व्यथा का व्यावाहरिक पक्ष ग्रामीण भारत की तकलीफ

मेरे एक अजीज साथी हैं सांगवान साहब जिनसे मेरा परिचय फेसबुक के माध्यम से हुआ था और मुझे उनका स्वभाव और विचार ठीक लगे और मेरी उनसे कब दोस्ती हुई और पारिवारिक भाईचारे में बदल गयी पता ही नही चला। मेरे पास वो कई बार चंडीगढ़ आये और मुलाकातें होती रही और मुझे उनकी अपने भविष्य को बनाने सम्बंधित आकांक्षाओं और योजनाओं का पता चलता रहा। बीच बीच में कई बार मेरी उनसे चर्चा बिजनेस सेटअप को लेकर हो जाया करती थी और पिछले एक डेढ़ साल में मैं दो बार उनके घर भी गया और उनके साथियों से भी …

Read more

बूढी मां के तीन गहने

उन्नीसवीं शताब्दी का अंतिम समय था। ठाकुरदास नामक एक वयोवृद्ध कोलकता में रहता था। उसके परिवार में केवल एक बच्चा और पत्नी थी। इस सीमित परिवार का भरण-पोषण भी ठीक प्रकार से न हो पाता। नियति ने उन्हें मेदिनीपुर जिले के एक गाँव में ला पटका। वहाँ ठाकुरदास को दो रुपये महावार की नौकरी मिली। कालाँतर में उनका देहाँत हो गया। पत्नी के कंधों पर सारे परिवार का दायित्व आया। इसी तरह कई वर्ष बीत गए। एक दिन रात के समय बेटे ने अपनी माँ के पैर दबाते हुए पूछा, “माँ मेरी इच्छा है कि मैं पढ़-लिखकर बहुत बड़ा विद्वान …

Read more

हल्दीघाटी युद्ध में वीरगति को प्राप्त होने वाले प्रमुख मेवाड़ी योद्धा

हल्दीघाटी का युद्ध 18 जून 1576 को मेवाड़ के महाराणा प्रताप का समर्थन करने वाले घुड़सवारों और धनुर्धारियों और मुगल सम्राट अकबर की सेना के बीच लडा गया था हल्दीघाटी का युद्ध 1) ग्वालियर के राजा रामशाह तोमर 2) कुंवर शालिवाहन तोमर (रामशाह तोमर के पुत्र व महाराणा प्रताप के बहनोई) 3) कुंवर भान तोमर (रामशाह तोमर के पुत्र) 4) कुंवर प्रताप तोमर (रामशाह तोमर के पुत्र) 5) भंवर धर्मागत तोमर (शालिवाहन तोमर के पुत्र) 6) दुर्गा तोमर (रामशाह तोमर के साथी) 7) बाबू भदौरिया (रामशाह तोमर के साथी) 8) खाण्डेराव तोमर (रामशाह तोमर के साथी) 9) बुद्ध सेन (रामशाह …

Read more

मिट्टी के जानकार बाबा दीपक सचदे

बाबा दीपक सचदे जी आज इस भौतिक जगत में नही हैं, लेकिन उनके द्वारा स्थापित काम जगत में बोल रहा है। बाबा दीपक सचदे के खेतों की मिट्टी में आर्गेनिक कार्बन कॉन्टेंट 6 से 7 तक है, यह ICAR के कृषि वैज्ञानिकों ने चेक करके बताया था। प्रकृति में जो मिट्टी निर्माण की प्रक्रिया है जो 400 वर्षों में पूरी होती है उसे बाबा दीपक सचदे ने समझ कर उसे सहज रूप से मात्र तीन महीने में पूर्ण कर लिया गया और नाम दिया गया अमृत मिट्टी निर्माण प्रक्रिया। सब कुछ ही मिट्टी में हैं यदि मिट्टी मजबूत है तो …

Read more

बहुत याद आएंगे सरदार हरविन्द्र सिंघ आत्मा जी

कल देर शाम जब मैं नारायणगढ़ से लौट रहा था तो अचानक से एक संदेश प्राप्त हुआ जो सीनियर साथी श्री हरविंद्र सिंह आत्मा जी के बारे में था।संदेश का ले आउट देख कर ही झटका लग गया और बड़े ही बोझिल मन से पढ़ा गया।दो साल पहले ही नाबार्ड क्षेत्रीय कार्यालय चंडीगढ़ के बड़े अधिकारी श्री मलकीत सिंह जी के मार्फत हैफेड ऑयल मिल ऑडिट प्रोजेक्ट के दौरान मेरा परिचय हरविंद्र सिंह आत्मा जी से हुआ था। ऑडिट का टेक्निकल पक्ष मेरे जिम्मे था और फाइनांशियल पक्ष हरविंद्र सिंह जी के जिम्मे था। कंसल्टेंसी मामलों में यह मेरा पहला …

Read more

समाज सेवा और सम्मान

नारायणगढ़ सिविल हॉस्पिटल में सुबह आठ बजे मेरे एक मित्र श्रीमान अजय वालिया जी दिखाने के लिए ओपीडी की लाइन में लगने लगे तो उसने देखा कि लाइन अभी लंबी है इधर पेट मे चूहे कूद रहे थे तो अपने से आगे वाले को बोल कर नज़दीक की दुकान से एक सैंडविच और पीने के लिए लस्सी का पाउच ले आये और लाइन की साइड में बैठ कर खाने लगे तभी उनका ध्यान एक आठ साल के बच्चे ने आकर्षित किया जो बेहद भूखी ललचाई नज़रों से उसे देख रहा था। उनसे रहा नही गया और उन्होंने इशारों ही इशारों …

Read more

आर्थिक संगठन का स्वरुप कैसा होगा और यह काम कैसे करेगा

आर्थिक संगठन की आत्मा होती है : पूँजी यानि की कैपिटल जो आज हर किसी के पास नही होती है, पूँजी की मदद से ही सभी व्यापारिक गतिविधियाँ चलाई जा सकती है। पूँजी को हाथ में कैश के रूप में नही रखा जा सकता है। इसके लिए एक बैंक खाते की आवश्यकता होती है और वो भी करंट अकाउंट होना चाहिए क्यूंकि हमें ऐसा बैंक खाता चाहिए होता है जिसमें जितनी बार मर्जी लेन देन किया जा सके। बचत खाता यानी सेविंग अकाउंट में तो केवल सीमित लेन देन ही किया जा सकता है। बैंक खाता खोलने के लिए एक …

Read more

शुभ लाभ आर्थिक संगठन

भूमिका हमारा देश असल में एक दुनिया हैं यहाँ आदिकाल से ही पूरे विश्व से शोधार्थी आते रहे हैं और यहाँ से सीख सीख कर ज्ञान और अनुभव पूरी दुनिया में ले जाते रहे हैं। शोधार्थियों के शोध ग्रंथों को पढ़ कर और उनके अनुभवों को सुन कर यहाँ की धन संपदा और वैभव को लूटने के मकसद से यहाँ हमलावर भी आते रहे हैं जिन्होंने हमारी धन संपदा को लूटने के साथ साथ हमारे ज्ञान केन्द्रों जैसे नालंदा और तक्षशिला जैसे विश्वविधालयों को नष्ट करने का काम किया है जिससे हमारा बौद्दिक विकास रुक गया और हम अजीब से …

Read more