ब्लूटूथ और कर्णपिशाचनी

साल 2014 की बात है हम CABI डायरेक्ट टू फार्म प्रोजेक्ट के आखिरी राउंड में थे जिसमें 3 महीनों में लगभग 4 लाख किसानों का प्रोफाइल तैयार किया जाना था और तब न दिन का पता होता था और न रात का, अक्सर दिल्ली मीटिंग्स में भी जाना पड़ता थाऔर रातों रात सफ़र करके सुबह …

Read more

error: Content is protected !!