किसान कम्पनियों के मसले और समाधान

आज दिनांक 28 अगस्त 2019 को नीलोखेड़ी करनाल में स्थित एक्सटेंशन एजुकेशन इंस्टीटूट जिसे भारत सरकार का कृषि मंत्रालय हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के मार्फ़त संचालित करता है में जम्मूकश्मीर, उत्तराखंड, और हरियाणा से आये हुए मिडल लेवल एक्सटेंशन फंकक्शनरीज के साथ चर्चा करने का अवसर मिला। विषय था एक्सटेंशन स्ट्रेटेजीस फ़ॉर लिंकिंग फार्मर्स विद एग्रो प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज़।प्रोग्रोवेर्स प्रोड्यूसर कम्पनी लिमिटेड तरावड़ी करनाल के निदेशक भाई Vikas Chaudhary जी से निवेदन किया कि वे भी लेक्चर में बतौर फैकल्टी आएं और चर्चा में भाग लें। चर्चा का आगाज़ इस बात किया गया कि हमें फार्मर्स को एग्रो प्रोसेसिंग इंडस्ट्री से जोड़ने …

Read more

जिला यमुनानगर हरियाणा के दस गाँवों में जन्म ले रही है वैचारिक और औद्योगिक क्रान्ति

रीड इंडिया संस्था गुरुग्राम के सहयोग से 150 महिलाओं को जड़ी बूटी और खाद्य प्रसंस्करण पर बेसिक ट्रेनिंग और एक आर्थिक संगठन के गठन के उद्द्देश्य से यमुनानगर जिले में एक मूक वैचारिक क्रांति उभर रही है।गांव कस्बे की किसी भी दुकान में गांव का बना हुआ कोई भी सामान नही मिलता। सारा सामान बड़े शहरों में बनी फैक्टरियों से घूमता घमाता कस्बों गांवों के नुक्कड़ की दुकानों में भरा रहता है और सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक हम खर्चा ही खर्चा करते रहते है। इसी विचार बीज को लेकर वैचारिक क्रांति की फॉउंडेशन रखी गयी है।महात्मा …

Read more

Important Definitions Related to Credit Guarantee Fund

Amount in Default Amount in Default means the principal and interest amount outstanding in the account(s) of the Farmer Producer Company (FPC) Borrower in respect of term loan and working capital facilities (including interest), as on the date of the account becoming Non Performing Asset (NPA), or the date of lodging claim application/recall of advance, whichever is earlier or such of the date as may be specified by SFAC for preferring any claim against the guarantee cover, subject to a maximum of amount Guaranteed and shall not include penal interest, other charges and any other costs debited to the FPC …

Read more

How to Draft Application for Equity Grant Fund

Application for Equity Grant Fund Eligible FPCs that meet the eligibility criteria detailed in Section 5, shall apply for the Equity Grant Other mandatory documents required to be submitted along with the Application are listed below: Shareholder List and Share Capital contribution by each member verified and certified by a Chartered Accountant (CA) prior to submission. Resolution of the FPC Board/Governing Council to seek Equity Grant for members. Consent of shareholders, stating name of shareholder, gender, number of shares held, face value of shares, land holding, signifying consent for SFAC to directly transfer the equity Grant sanctioned to the FPC …

Read more

Equity Grant Fund

The Equity Grant Fund enables eligible FPCs to receive a grant equivalent in amount to the equity contribution of their shareholder members in the FPC, thus enhancing the overall capital base of the FPC. The Scheme shall address nascent and emerging FPCs, which have paid up capital not exceeding Rs. 30 lakh as on the date of application. The Equity Grant shall be sanctioned to eligible FPCs as follows: Equity Grant shall be a cash infusion equivalent to the amount of shareholder equity in the FPC subject to a cap of Rs. 10 lakh per FPC. Equity Grant sanctioned shall …

Read more

Objectives & Eligibility Criteria for Equity Grant Fund

Objectives of Equity Grant Fund The Equity Grant Fund has been set up with the primary objectives of: Enhancing viability and sustainability of FPCs; Increasing credit worthiness of FPCs; Enhancing the shareholding of members to increase their ownership and participation in their FPC. Eligibility Criteria An FPC shall be eligible to apply for Equity Grant under the Scheme based on its fulfilling the following criteria: It is a duly registered Farmer Producer Company. It has raised equity from its Members as laid down in its Articles of Association. The number of its Individual Shareholders is not lower than 50. Its …

Read more

Important Definitions related to SFAC

BANK Bank means a Scheduled Commercial Bank included in the Second Schedule to the Reserve Bank of India Act, 1934, Regional Rural Banks or any other Institution(s) as may be directed by the Board of SFAC or Ministry of Agriculture, Government of India(GoI) from time to time; BOARD Board means any form of Governing Body of the FPC such as Board of Directors; EQUITY Equity means the amount of share capital contributed by the Shareholder Members (farmer producers/ institutions of farmer producers) of FPC; EGF EGF means Equity Grant Fund created at SFAC, for providing Equity Grant to FPCs; FARMER …

Read more

Acronyms related to S.F.A.C.

SFAC यानी स्माल फार्मर्स एग्रीबिजनेस कंसोर्टियम, यह एक केंद्र सरकार द्वारा गठित एक संस्था है जिसका उद्देश्य किसान समूहों की मदद करना है SFAC से सम्बन्धित दस्तावेजों में बहुत सारे Acronyms का प्रयोग होता है जिससे किसान भाई अनजान होते हैं और उन्हें दस्त्वेजों को समझने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है मैंने SFAC के दस्तावेजों को पढ़ कर अनेक acronyms ढूंढे हैं जिनका वर्णन नीचे विस्तार से लिख रहा हूँ ताकि आपको समझने में कोई दिक्कत ना हो और आपके ज्ञान में वृद्धि हो EGCGFS- Equity Grant and Credit Guarantee Fund Scheme FY- Financial Year GoI- Government of …

Read more

किसान उत्पादक कम्पनी में किसान क्या क्या काम कर सकते हैं ?

आजकल किसान उत्पादक कम्पनियों यानि फार्मर प्रोड्यूसर कम्पनीज का गठन बड़े जोरशोर से किया जा रहा है लेकिन किसान भाई अक्सर कंफ्यूज रहते हैं कि इन किसान कम्पनियों के माध्यम से कौन कौन से कार्यकलाप किये जा सकते हैं.   किसान उत्पादक कम्पनी में प्राइमरी प्रोड्यूस से जुड़े सभी कार्यकलाप किये जा सकते हैं इसके लिए हमें सबसे पहले यह समझना होगा कि प्राइमरी प्रोड्यूस क्या होता है |  प्राइमरी प्रोड्यूस क्या होता है ?  किसानों द्वारा उत्पादित किये जा सकने वाला कोई भी उत्पाद जिसे खेती बाड़ी , पशुपालन , फल सब्जी , फूल उत्पादन , मछली पालन , अंगूर …

Read more

फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी को पंजीकृत कैसे करवाएं

किसान प्रोड्यूसर कंपनी का गठन रजिस्ट्रार ऑफ़ कम्पनीज के द्वारा किया जाता है जिसके लिए आवेदन ऑनलाइन माध्यम से कंपनी सेक्रटरी या चार्टेड अकाउंटेंट के माध्यम से किया जाता है | रजिस्ट्रार ऑफ़ कम्पनीज के पास आवेदन करने के लिए कम से कम दस किसानों की आवश्यकता होती है जिनके नाम भूमि के रिकार्ड में दर्ज हों और वो खेती भी करते हों , उनके पास पैन कार्ड और आधार कार्ड हो तथा एक एक्टिव बैंक खाता भी हो जिसमें रेगुलरली लेन देन होता हो किसानों को किसान प्रोड्यूसर कम्पनी बनाते समय अपने उद्देश्य भी लिखने होते हैं किसान अपनी …

Read more