Prafull Chandra Ray प्रफुल्ल चंद्र रे

भारतीय रसायनशास्‍त्र के जनक डॉ. प्रफुल्ल चंद्र रे जन्म 2 अगस्त, 1861 आचार्य प्रफुल्ल चंद्र रे (Prafull Chandra Ray) ने न केवलभारत में पहली दवा कंपनी की स्थापना कीबल्कि हिंदू रसायन विज्ञान के इतिहास कापहला व्यापक लेख भी लिखा ब्रिटिश खुफिया रिपोर्टों ने उन्हें नियमित रूप से“एक वैज्ञानिक की आड़ में क्रांतिकारी”के रूप में वर्णित किया कई भारतीय प्रतिभाओं में सेएक जिन्हें अंग्रेजों ने नीचा दिखायानैरेटिव बिल्डिंग / प्रोपेगैंडाकुछ आधुनिक दिन हैजिसे लोगों को अंग्रेजों से सीखना चाहिएवे इसमें उस्ताद थेन केवल अंग्रेजों द्वाराबल्कि आजादी के बाद के भारत में भीनीचा दिखाया गया अगर बंगाली उनके ज्ञान, उद्योग, व्यापारऔर वाणिज्य …

Read more

चौधरी खरताराम जाखड़ Kharta Ram Jakhar

चौधरी खरतारामजी उन्हीं महापुरुषों में से एक थे। बचपन में चौधरी साहब को क्षेत्र मे व्याप्त प्राकृतिक, सामाजिक, राजनैतिक, आर्थिक और साम्प्रदायिक समस्याओं से सामना करना पड़ा।

वृंदावन के लाल बाबा

91 वर्ष के लाल बाबा 91 वर्ष के लाल बाबा 35 मिनट में पूरी करते हैं परिक्रमा और करीब 20 साल से भोजन का त्याग कर रखा है। सनातन धर्म में संतों का त्याग और समर्पण अविस्मरणीय है। बहुत से संतो ने अपना पूरा जीवन ही लोक कल्याण के लिए अर्पित कर दिया। वृंदावन में भी ऐसे हैं लाल बाबा, जिनका पूरा जीवन ही लोक कल्याण के लिए है। लोगों के कल्याण के लिए कठोर साधना, तपस्या करते हैं। कालीदह के निकट यमुना जी के किनारे एक मंदिर में लाल बाबा जी रहते हैं। 40 वर्ष से अधिक समय से …

Read more

किसान केसरी बलदेवराम मिर्धा

02 अगस्त 1953 को कृषक क्रांति का जाज्वल्यमान नक्षत्र धूमकेतु की तरह अपनी छटा बिखेर कर विलखते हजारो संगी साथियों और अनुयायियों को छोड़ इस नश्वर संसार को अलविदा कह गया। महान् स्वतंत्रता सेनानी किसान केसरी बलदेवराम जी महान् स्वतंत्रता सेनानी किसान केसरी बलदेवराम जी मिर्धा ने मारवाड़ रियासत में पुलिस विभाग के डीआइजी पद से स्तीफा देकर किसान कौम के लिए उनके द्वारा किए गए अनुपम महान कार्यो को बताना इस समय समयोचित होगा शिक्षा प्रसार के लिए 1925 में पुष्कर में अखिल भारतवर्षीय जाट महासभा के सम्मलेन का आयोजन। 1927 बसंत पंचमी के दिन किसानो के बच्चो के …

Read more

मास्टर पंजाब सिंह पूनिया जी सातरोड हिसार हरियाणा वाले

दफ्तर के काम से हिसार ज़िल के सातरोड पिंड में जाना हुआ और वहां मुझे बातों ही बातों में 78 वर्षीय मास्टर पंजाब् सिंह पूनिया के मालूम चला और मैंने छोटे भाई Vikas Hariyanvi Satrod जी से निवेदन किया कि मुझे मास्टर जी से मिलवाओ। गांव सातरोड की पुरानी तंग गलियों से गुजरते गुजरते हम मास्टर जी के नोहरे में पहुंचे तो मास्टर जी काम मे लगे थे और मैंने अपना थोड़ा सा परिचय दिया लेकिन मास्टर जी समझ चुके थे के बन्दा विकास के साथ आया है तो इसे इतिहास में रुचि है। मास्टर जी सातरोड गांव के इतिहास …

Read more

पुणे के राहुल पाठक बना रहे हैं बिना बिजली के चलने वाला पोर्टेबल वाटर फ़िल्टर

img 20211102 205844 1

पोर्टेबल वाटर फ़िल्टर बनाने वाले ये श्रीमान राहिल पाठक जी हैं जो पुणे, महाराष्ट्र के रहने वाले हैं। राहुल बताते हैं कि जब पुणे में मैं इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा था, तब मुझे समझ आया कि तार्किक ढंग से प्रयोग के जरिये ही मैं अनेकों समस्याओं का हल निकाल सकता हूँ जिससे मैं अपने भविष्य का निर्माण करने के साथ साथ अनेकों लोगों का जीवन भी आसान कर सकता हूँ। साल 1993 में मैंने अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ देने का मन बनाया और मैं एक वॉटर प्यूरीफायर की मार्केटिंग करने लगा। मेरी मार्केटिंग करने की प्रक्रिया देख …

Read more

Daily Income Model in Agriculture by Farmer Suresh Goyal

Introduction Suresh Goyal is 61 years old farmer; he was a transporter at Mumbai and started agriculture at the age of 50 years and developed a Daily Income Model in agriculture. He says I do not keep all eggs in one basket, means I don’t rely on monoculture and I follow crop diversification at highest level and sell my produce in vicinity of 7 kilometres of my farm. He says there are 50000 people live in 7 kilometre circle of my farm and they eat thrice a day. No one in this world can best food at an affordable competitive …

Read more

95 वर्षीय हरभजन कौर दी एंटरप्रेन्योरशिप

यह तस्वीर 95 वर्षिय हरभजन कौर की है। अमृतसर के नज़दीक तरनतारन में जन्‍मी हरभजन कौर शादी के बाद अमृतसर, लुधियाना में रही और करीब दस साल पहले पति की मौत के बाद वे कुछ समय से अपनी बेटी रवीना के साथ चंडीगढ़ में रहने लगी। रवीना जानती थी के माँ का जीवन अपने आखरी पड़ाव पर है। एक शाम भावुक हुई रवीना ने सामने बैठी माँ से पूछा ” ज़िंदगी में मलाल तो नहीं न है आपको, कोई चाहत तो बाकी नहीं है। कहीं आने-जाने या कुछ करने या कोई जगह देखने की इच्छा है तो बता दीजिये।” बिटिया …

Read more

डॉ सुरेंद्र दलाल एक सच्चे कर्मठ वैज्ञानिक से मुलाकात और उनकी यादें

डॉ सुरेंद्र दलाल जी एक सच्चे और धुरंधर वैज्ञानिक जी से मुलकात की यादें तो बहुत हैं लेकिन मुझे अपने जीवन में स्वर्गीय डॉ Surender Dalal जी से मिलने का मौका सिर्फ पांच या छह बार ही मिला है लेकिन फिर भी यह मुलाकातें सुबह से शाम तक बैठने वाली थी, उनको काम करते देखना और उनके नजरिये से मुद्दों को समझना , मेरे लिए एक दम नया अनुभव था। कोई इंसान सरकारी नौकरी में काम करते हुए लोगों का प्यार पाते हुए वैज्ञानिक कार्य कर सकता है , यह मैंने डा सुरेंदर से मिलने के बाद ही अनुभव किया। …

Read more

डोभ वाली क्रिएटिव दादी गंगा देवी

मेरे जीवन मे जब जब ज्ञान से अपनी जीने की राह निकालने का सवाल आता है तो सबसे ऊपर दादी गंगा देवी जी का नाम आता है। दादी गंगा देवी ने बचपन मे खेतों में काम करते करते स्कूल के आते जाते बच्चों के साथ खेल खेल कर गिनती पहाड़े सीख लिए,बिल्कुल अनपढ़ होने के बावजूद कैलकुलेशन में एक दम परफेक्ट थी। इनका विवाह रोहतक जिले के डोभ गांव में श्री होशियार सिंह हुड्डा जी के साथ हुआ , दादी बताती हैं के थारा दादा पाली था और उसने हिसाब किताब का किमे ज्ञान न था, सारा हिसाब किताब और …

Read more