Creative News Bulletin 12 January 2022

गोल्डन लेटर बॉक्स भारतीय डाक विभाग ने अपनी रचनात्मकता का परिचय देते हुए ओलिंपिक गोल्ड मैडल विजेता नीरज चोपड़ा के गाँव खंडरा में घर से कुछ दूरी पर एक बड़ा लेटर बॉक्स लगाया है जिसे सुनहरी (गोल्डन) रंग में रंगा गया है । गोल्डन लेटर बॉक्स लगाने की योजना के पीछे विचार यह है कि …

Read more

हिंदी में हैं अनन्त संभावनाएं – विश्व हिंदी दिवस 2022

भूमिका हिंदो भाषा के वैश्विक भाषा के रूप में प्रचार प्रसार के लिए पहला विश्व हिंदी सम्मेलन 10 जनवरी 1975 को नागपुर में आयोजित किया गया था जहां 30 देशों के 122 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। लेकिन इस दिन विश्व हिंदी दिवस मनाने की अधिकारिक घोषणा वर्ष 2006 में हुई थी, जिसके बाद हर साल …

Read more

बुल्ली बाई एप्प

भूमिका इंटरनेट पर www.github.com एक ऐसा मंच है जहां पर वेब और एप्प डेवेलोपेर्स आपस मे इंटरेक्शन एवं कोड शेयरिंग करते हैं। लेकिन यह मंच एक बड़े बेहूदे मामले में आज चर्चा में आया है। इस मंच पर एक मोबाइल एप्प की नीलामी रखी गयी जिसका नाम बुल्ली बाई एप्प था। मसला मामला यह है कि उत्तराखंड …

Read more

रसूख क्या होता है जीवन में इसके क्या मायने होते हैं।

सुनीत धवन मेरा बहुत पुराना साथी है और एक सही मायनों में पत्रकार है जिसने सच्ची पत्रकारिता से अपनी पहचान स्थापित की है और एक ऐसा प्रभाव कायम किया है जिसे देख कर लगता है कि पत्रकारिता भी एक सम्मानजनक कैरियर है। दीपावली की छुट्टियों में मेरा रोहतक आना हुआ और हम सारे भाई इक्कठे …

Read more

दीपावली पटाखे और दीपावली मनाने वाले और इनके नाम पर रोने वालों की दवाई

शोर शराबे धुएं और प्रदूषण का रौला रप्पा 2021 की दीपावली बीत गयी है और तमाम कोर्ट कचहरियों के बैन और पर्यावरणविदों की मार्मिक अपीलों के बावजूद दीपावली मनाने वालों ने दीपमाला करने के बाद ठीक ठाक मात्रा में पटाखे छोड़े और आज सुबह गलियां कूड़े से और आसमान स्मॉग से भरा पड़ा है। दीपावली …

Read more

आखिर मोदीजी नये कृषि कानूनों को वापिस क्यों नही ले रहे ?

देश में किसान आन्दोलन को लगभग एक वर्ष होने को आया है जिसमें किसानों के प्रतिनिधि कई दौर की बैठकें सरकार के साथ कर चुके हैं और जिनका कोई नतीजा नही निकला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इन कानूनों को वापिस लेने को तैयार नही हैं और उनका अड़ियल रुख देशवासियों के सामने एक सवाल …

Read more

धौले एंड काले कानून और किसानपुत्र की व्यथा का व्यावाहरिक पक्ष ग्रामीण भारत की तकलीफ

मेरे एक अजीज साथी हैं सांगवान साहब जिनसे मेरा परिचय फेसबुक के माध्यम से हुआ था और मुझे उनका स्वभाव और विचार ठीक लगे और मेरी उनसे कब दोस्ती हुई और पारिवारिक भाईचारे में बदल गयी पता ही नही चला। मेरे पास वो कई बार चंडीगढ़ आये और मुलाकातें होती रही और मुझे उनकी अपने …

Read more

शूद्र एक घृणित सम्बोधन कब हुआ किसने किया और कैसे किया क्यों किया ? एक विश्लेषण

त्रिभुवन सिंह ऋग्वेद मे लिखा है ब्राम्हण्म मुखम आसीत शूद्रह अजायत। अर्थात परंब्रम्ह की जिह्वा है ब्रामहण । यानि जो तपस्या (रेसेर्च ) से जो मांनव कल्याण हेतु जो मंत्र खोजे जाते है , उसी को जिह्वा से जगत मे प्रचारित प्रसारित करने वाले को ही ब्रामहण कहते हैं । दूसरी बात उस परम्ब्रंह की …

Read more

गौपालन गौसंरक्षण गौसंवर्धन गौशालाएं और कानूनी अडचनें और संभावनाएं

महक सिंह तरार और कमल जीत भूमिका गाय सनातन की आर्थिक धुरी है और धर्म के मूल में जो अर्थ होता है वह असल में गाय ही होती है। चूंकि गाय सनातन इकनोमिक सिस्टम की करंसी है इसी लिए जो हालात आज गाय की हो रखी है वही हालात हमारी करंसी अरतार्थ मुद्रा के हो …

Read more

एक सीधा सवाल देश के किसानों से

इस देश में आत्मविश्वाश और आत्म निर्भरता का रास्ता केवल और केवल और खेतों से जाता है। हम जैसे नौकरी पेशा, बिना जमीन और बिना गाय वाले लोग संडे को सपरिवार खेतों में घूमने चले जाएं तो सड़कों और मॉल्स में से भीड़ छंट जाएगी और खेतों में रौनकें बढ़ेंगी। वहां अपन को फुलस्टॉप लगा …

Read more

error: Content is protected !!